भूलेख उत्तराखंड: खसरा खतौनी, भू नक्शा/भू अभिलेख, जमाबंदी नकल देवभूमि उत्तराखंड

Uttarakhand Bhulekh Online | खसरा खतौनी,भू नक्शा/भू अभिलेख, जमाबंदी नकल | देवभूमि उत्तराखंड | उत्तराखंड भूलेख ऑनलाइन पोर्टल

भारत में भूमि से जुड़े विवाद आये दिन सामने आते रहते है। ऐसे में उत्तराखंड की सरकार ने भू अभिलेख पोर्टल की शुरुआत की है।

इस पोर्टल के जरिये राज्य के लोग अपनी जमीन से जुड़ी सभी जानकारी जैसे उत्तराखंड भूलेख (Uttarakhand Land Records),

देवभूमि भू-नक्शा, खसरा-खतौनी, जमाबंदी और भू-अभिलेख (Uttarakhand Bhulekh, Devbhoomi Bhu-Naksha,

Khasra-Khatauni, Jamabandi) आदि प्राप्त कर सकता है।

वैसे आपको बता दें, जमीन से जुड़े सभी रिकॉर्ड पटवारी के पास सुरक्षित होते है। लेकिन राज्य सरकार ने सब इसे पहले से ज्यादा सरल बना दिया है।

जी हाँ, अब उत्तराखंड के लोग अपने कंप्यूटर या स्माटफोन में अपनी भूमि की जमाबंदी नक़ल, भूलेख नक्शा, खसरा, खतौनी संख्या,

खतौनी की प्रतिलिपि तथा अन्य सुविधाएं घर बैठे आसानी से ले सकता है। तो आइये जानें आप किस प्रकार भूलेख उत्तराखंड से जुड़ी

सभी जानकारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकते है।

खसरा खतौनी, भू नक्शा देवभूमि उत्तराखंड

राज्य के लोग अपनी ज़मीन का पूरा रिकॉर्ड अब देवभूमि उत्तराखंड की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर देख सकते है।

इस पोर्टल के जरिये वह अपनी जमीन को बेच भी सकते है। यही नहीं पोर्टल के जरिये राज्य के लोग अपनी जमीन का का

प्रकार, खातेदार का विवरण आदि भी जान सकते है। इसके आवला वह अपनी खसराखतौनी,भू नक्शा/भू अभिलेख, जमाबंदी नकल

ऑनलाइन डाउनलोड करके भी रख सकते है।

Bhulekh Uttarakhand Highlights

योजना का नामभूलेख उत्तराखंड
लाभार्थीउत्तराखंड के नागरिक
उद्देश्यभूमि रिकॉर्ड ऑनलाइन उपलब्ध कराना
देखने का तरीकाऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइटhttp://bhulekh.uk.gov.in/Bhulekh/

भूलेख उत्तराखंड ऑनलाइन का उद्देश्य

आपको बता दें, राज्य के लोगों को अपनी जमीन से जुड़े किसी भी काम के लिए पटवारखाने के चक्कर लगाने पड़ते थे।

ऐसे में लोगों को कई तरह की परेशानियां उठानी पड़ती थी। वहीं उन्हें धोखाधड़ी, रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार का भी सामना

करना पड़ता था। इसलिए सरकार ने उत्तराखंड भूलेख रिकॉर्ड  की शुरुआत की। सरकार का मकसद राज्य के नागरिक को

भूलेख से जुडी सभी जानकारियां आसानी से उपलब्ध कराना है। इसी उद्देश्य से उत्तराखण्ड सरकार ने इस पोर्टल शुरू किया।

Uttarakhand Bhulekh के लाभ

Uttarakhand Bhulekh  ऑनलाइन  पोर्टल से राज्य को लोगों को कई लाभ होंगे, जिन्हे हम आपको बताने जा रहे है।

  • * भूमि की खरीद-फरोख्त से बचेंगे।
  • * भूमि पर किसी भी बैंक में ऋण के लिए आवेदन कर सकते है।
  • * बार-बार सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।
  • * रिश्वतखोरी, भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी।
  • * पोर्टल से समय की बचत होगी।
  • * बिचौलियों से बचेंगे।
  • * घर बैठे सारी जानकारी ऑनलाइन लेने की सुविधा।
  • * पोर्टल के जरिये अब कोई भी नागरिक अपने नाम, खसरा नंबर, खाता संख्या का उपयोग करके भूमि रिकार्ड आसानी से
  • प्राप्त कर सकता है।
  • * यह पोर्टल पारदर्शी भूमि रिकॉर्ड प्रबंधन प्रणाली की सुविधा प्रदान करता है।
  • * इन सबके अलावा भूमि से संबंधित अपराधों जैसे अवैध संपत्ति, धोखाधड़ी आदि पर रोक लगेगी।
  • * जमीनी विवाद कम होंगे।
  • * कोर्ट में भूमि से जुड़े विवादों पर भी लगाम लगेगी।

भूलेख उत्तराखंड: खसरा खतौनी नकल, जमाबंदी ऑनलाइन कैसे देखे ?

अगर आप देवभूमि पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन अपनी जमीन का ब्यौरा जानना चाहते है तो आपको कुछ चरणों को

फॉलो करना होगा। बता दें, ये चरण बेहद ही आसान है-

  • * सबसे पहले आपको सरकार द्वारा जारी Bhulekh Uttarakhand Land Record/देवभूमि की ऑफिसियल वेबसाइट  पर जाना होगा।
  • * पोर्टल का होम पेज आपके सामने खुल जायेगा।

  • * इस पेज पर अब आपके सामने  Public ROR का ऑप्शन दिखाई देगा । अब आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।

  • * अपना जिला और तहसील का चुनाव कर “ओके” पर क्लिक कर दे।
  • * अब आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा।
  • * यहाँ आपको अपने जनपद, तहसील व ग्राम के नाम का चयन करना होगा।
  • * अब आप अपने खाता संख्या,खसरा/गाटा संख्या तथा खातेदार के नाम से खतौनी नकल देख सकते है।
  • * अब आपको अक्षर तालिका से अपने नाम के अक्षर लिखकर खोजे पर क्लिक कर दे।
  • * इसके बाद आप पीडीऍफ़ फॉर्मेट में Bhulekh UK (ROR) विवरण ऑनलाइन देख पाएंगे, जिसे आप डाउनलोड कर प्रिंट भी कर सकते है।

मैप नकल ऑनलाइन कैसे देखें

इस पोर्टल के जरिये आप अपनी जमीन का नक्शा भी ऑनलाइन देख सकते है। अपना नक्शा देखने के लिए आपको

उत्तराखंड भू नक्शा पोर्टल पर जाकर कुछ जानकारियां देनी होगी। तो चलिए जानते है-

  • * सबसे पहले आपको देवभूमि पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • * इसके बाद अपना जिला पंचायत तहसील गांव का चुनाव करें।
  • * अब अपने खसरा खतौनी संख्या खाता नंबर या नाम से अपनी जमीन का ब्यौरा निकाले।
  • * इसके बाद अपनी जमीन का चुनाव कर लेने के बाद आपकी जमीन का नक्शा दिखाई देगा।
  • इसका आप प्रिंट निकाल सकते है।